विविध

Shikshamitron सहित शहर कोतवाल घायल

Shikshamitron नें दस हजार रुपये के मानदेय का विरोध करते हुये पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस आये राज्यमंत्री सुरेश पासी से मिलने की योजना बनाई। लेकिन सड़क पर पहले से बैरिकेडिंग लगाए खड़ी पुलिस से उनकी भिड़ंत हो गई। इस दौरान दोनों तरफ से पत्थरबाजी हुई, पुलिस ने लाठीचार्ज कर  आंसू गैस छोडी, जिस पर Shikshamitron ने पथराव कर दिया। इसघटना में दस पुलिसकर्मी व एक दर्जन से अधिक शिक्षामित्र भी घायल हुये हैं।Shikshamitraपथराव व मारपीट से गुस्साए प्रशासन नें आसपास मौजूद शिक्षा मि़़त्रों को गलियों घरों से दौड़ा दौड़ा कर पकड़ा। पुलिस के लाठीचार्ज के बाद भारी संख्या में महिला व पुरूष Shikshamitron नें विधान परिषद के सभापति रमेश बाबू यादव के घर शरण ली, जहां पर भारी संख्या में पुलिस बल व पीएसी नें उन्हें पकड़ कर अस्थाई जेल पुलिस लाईन के मीटिंग हाल मंे नजदबन्द कर दिया है।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा शिक्षा मित्रों का सहायक शिक्षक के रूप में समायोजन रद्द करने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दस हजार मानदेय कर दिया, इसके विरोध में सैकड़ों शिक्षक शिक्षामित्र न्याय की मांग करते हुए शुक्रवार को सड़कों पर उतर आए। आज राज्यमंत्री सुरेश पासी गांधी मार्केट स्थित पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस में आये हुये थे।

शिक्षामित्र प्रदर्शन करते हुये उनसे मिलने जा रहे थे। तभी अपर पुलिस अधीक्षक संजय कुमार के नेतृत्व में पुलिस प्रशासन द्वारा उन्हें बैरीकेटिंग कर रोक लिया गया। करीब एक घंटा तक शिक्षामित्र सड़क पर प्रदर्शन करते रहे, यातायात व्यवस्था चरमरा गई। पुलिस व शिक्षामित्र पसीना पसीना हो गए। शिक्षामित्रों की मांग थी कि वे सभी लोग राज्य मंत्री सुरेश पासी से मिलकर ज्ञापन सौंपेगे, लेकिन पुलिस प्रशासन चार-पांच लोगों के प्रतिनिधि मंण्डल को ही जाने की अनुमति दे रहा था।

इसके बाद गुस्साए शिक्षामित्रों नें मंत्री जी से मिलाने के लिए प्रशासन की ओर से पहल कर रहे एसडीएम सदर संजीव कुमार को पांच मिनट में मंत्री जी को धरना स्थल पर आकर ज्ञापन लेने और न आनें पर स्वंय सर्किट हाउस जाकर ज्ञापन देनें का फरमान जारी कर दिया। जिसे एसडीएम सदर नें गंम्भीरता से नहीं लिया और मंत्री जी को स्थिति से अवगत नहीं कराया। अगर समय रहते बीच का रास्ता निकल आता तो यह टकराब टल भी सकता था। मंत्री जी अन्दर बैठे रहे और बाहर शिक्षा मित्र पुलिस में पथराव लाठी डंडा व आंयाू गैस के गोले चलते रहे ।

जब मंत्री मिलने नहीं आये और शिक्षामित्रों को पुलिस ने मिलने नहीं दिया, तो शिक्षामित्रों का गुस्सा फूट पड़ा, शिक्षामित्रों की भीड़ देखते ही देखते हिंसक हो गई और बैरीकेडिंग में धक्का मारकर गिरा दिया। शिक्षामित्र एडीएम महेश कुमार को धक्का मार पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस की ओर बढ़ने लगे। तभी पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। उधर से शिक्षामित्रों ने पथराव कर दिया। फिर पुलिस ने आसूू गैस छोड़ी और पत्थरवाजी भी की, शिक्षामित्रों की लाठियों से जमकर पिटाई की गई।

Shikshamitraप्रदर्शन कर रहे शिक्षामित्रों पर पुलिस ने जमकर लाठी भांजी जिससे शिक्षामित्र कृष्णा दीक्षित, मनोज कुमार, हरिओम प्रजापति, राजेश गुप्ता, गीता, संतोष कुमारी के अलावा कई महिला एवं पुरुष शिक्षामित्र लहूलुहान हो गए। करीब 8-10 मिनट तक लाठी चार्ज का सामना करने के बाद प्रदर्शनकारी शिक्षामित्रों की हिम्मत टूट गई। पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस की ओर बढ रहे प्रदर्शनकारी शिक्षामित्रों को जानवरों की तरह पीटे जाने से वो पीछे लौटने पर मजबूर गए।वहीं घटनास्थल के आसपास के व्यापारी प्रदर्शन देखते हुए अपनी दुकानें बंद कर चले गए। लेकिन पुलिस ने दुकानों से निकाल निकाल कर शिक्षामित्रों को पीटा एक दुकान का शीशा भी तोड़ दिया गया।

महिला पुलिस द्वारा एक शिक्षामित्र को गिरफ्तार कर लिया गया, उसके करीब 5 मिनट बाद सभी शिक्षामित्र एकत्रित हो पुनः वापस आ गए और 30 Shikshamitron ने पुलिस को गिरफ्तारी दी। बल प्रयोग के दौरान प्रदर्शन कर रहे शिक्षा मित्र महिला और पुरुषों को पुलिस ने हिरासत में लेकर उन्हें पुलिस की गाड़ियो में बैठाकर अन्यत्र भेज दिया। प्रदर्शन में शामिल कई महिलाओं ने पुरुष पुलिसकर्मियों पर दुर्व्यवहार करने का भी आरोप लगाया है। उनका कहना था कि महिला पुलिस के बजाए पुरुष पुलिसकर्मी उन्हें जबरन हाथ लगा रहे थे, उनके पकड़े फाड़ दिये गए।

वहीं Shikshamitron द्वारा की गयी पत्थर बाजी में अपर पुलिस अधीक्षक संजय कुमार क्षैत्राधिकारी नगर व षहर कोतवाल पंकज मित्रा एसएचओ निधेाली आर के सिंह,गंगा प्रसाद ,संतोष कुमार सहित 10 से अधिक पुलिस कर्मी भी घायल हुए है। पंकज मिश्रा को अधिक चोट होनें के कारण जिला चिकित्सालय में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है। इस दौरान भारी मात्रा में महिला और पुरुष पुलिसकर्मियों के साथ जिलाधिकारी अमित किशोर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अखिलेश चौरसिया के अलावा अन्य वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंच गए।

जिलाधिकारी ने बताया कि इस घटना में शहर कोतवाल पंकज कुमार सहित करीब 10 पुलिसकर्मी भी घायल हुये हैं। जिन्हें उपचार के लिए स्वास्थ्य केन्द्र में दाखिल कराया गया है। उन्होंने कहा कि मंत्री से मिलने जा रहे Shikshamitron को रोका गया तो वे लोग हिंसक हो गये और पथराव कर दिया गया, पुलिस को बल प्रयोग कर उन्हें रोका गया है। पुलिस ने किसी पिटाई नहीं की है। अब स्थित ठीक है। इस दौरान कई क्षेत्राधिकारी एवं कई थानों का पुलिस फोर्स मौके पर मौजूद था।

जिला चिकित्सालय में समाचार लिखे जानें तक आधा दर्जन से अधिक शिक्षा मित्र उपचार के लिए भर्ती थे। प्रशासन व Shikshamitron में स्थिति तनाव पूर्ण थी। वहीं शिक्षा मित्र एसके राजपूत नें जिला चिकित्यालय में बताया वह अपनी गिरफ्तारी देनें प्रशासन के पास गया था उसे पुलिस लाईन में ले जाकर पुलिस कर्मियों ने जानवरों की तरह मारा और उसका मोबाइल चैन व पांच हजार नगद भी लूट लिए। सपा जिला अध्यक्ष अशरफ हुसैन नें मंत्री की मौजूदगी में हुए लाठी चार्ज व शिक्षा मित्रों के घायल होनें की निन्दा की है।

खबर एटा की

राज्‍यों से जुड़ी हर खबर और देश-दुनिया की ताजा खबरें पढ़ने के लिए नार्थ इंडिया स्टेट्समैन से जुड़े। साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप को डाउनलोड करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button

sbobet

mahjong slot

Power of Ninja

slot garansi kekalahan 100

slot88

spaceman slot

https://www.saymynail.com/

slot starlight princess

https://moolchandkidneyhospital.com/

bonus new member

rtp slot

https://realpolitics.gr/

slot 10 ribu

slot gacor