panchtantra-king

PanchTantra की कहानी-King-Pinglak भाग-14

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-13 में आपने पढ़ा कि …….. कहा तो यह भी गया है कि चाहे King कितने भी संपन्न हो, कितना भी कुलीन हो और चाहे उसे King...
king-pinglak

PanchTantra की कहानी-King-Pinglak भाग-13

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-12 में आपने पढ़ा कि …….. जब करटक ने भी हामी भर दी, दमनक उसे प्रणाम करके King-Pinglak की ओर चला। दमनक को अपनी ओर आते देख...
panchtantra-king-3

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-12

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-11 में आपने पढ़ा कि …….. राजा (King)का पद उसी तरह दुर्लभ है जैसे ब्रह्मतेज की प्राप्ति। ब्रह्मत्व की साधना और राजसत्ता की प्रितस्पर्धा में तनिक भी...
snake-panchtantra

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-11

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-10 में आपने पढ़ा कि …….. पिता के संपर्क में रह कर जो कुछ मैंने सीखा है उसका एक भेद यही है कि जो बिना अवसर के...
panchtantra-king-10

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-10

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-9 में आपने पढ़ा कि …….. दमनक समझाता जा रहा था, जो व्यक्ति राजा को आफत में पड़ा देखकर भी उसकी अनसुनी नहीं करता है और उसके...
panchatantra-King-Kartak-Damanak

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-9

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-8 में आपने पढ़ा कि …….. दमनक ने अब हंसते हुए कहा, एक बात याद रखो। जो सेवक सोचता है कि राजा (King) को रिझा लिया, अब...
Panchatantra-King-8

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-8

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-7 में आपने पढ़ा कि …….. जो कुछ उस समय मैंने सुना और जाना था उसका सारांश मैं तुम्हें बताता हूॅ। कम से कम इसे तो गांठ...
panchatantra-damanak

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-7

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-6 में आपने पढ़ा कि —........ करटक एक-एक कदम फूंक-फूंक कर रखने वालों में था। वह किसी काम में जल्दी नहीं करता था और पूरी बात समझे...
Panchatantra-king-pinglak

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-6

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-5 में आपने पढ़ा कि — मैं थोड़ी देर के लिए तुम्हारी बात मान भी लेता हूं। पर क्या यह सच नहीं है कि जो लोग ठान...
Panchatantra_King

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-5

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-4 में आपने पढ़ा कि — अप्रधान: प्रधान: स्यात् सेवते यदि पार्थिवम? और जिनकी तूती बोलती रहती है उन्हें भी जब अपने पद से हटा दिया जाता...

MUST READ

MOST POPULAR