विविध

ONGC का पहली बार तटीय क्षेत्र से तेल उत्पादन बढ़ा

ONGC (सार्वजनिक क्षेत्र की तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम)  के जमीन पर स्थित तेल क्षेत्र (आनशोर) से कच्चे तेल का उत्पादन पिछले वित्त वर्ष 2016-17 में 2.58 प्रतिशत बढ़ा है। सात साल में पहली बार कंपनी ने इस खंड से उत्पादन में बढ़ोतरी दर्ज की है। कंपनी ने उम्मीद जतायी है कि उत्पादन में वृद्धि की यह प्रवृत्ति आगे भी जारी रहेगी। ONGC का तटीय क्षेत्र से कच्चे तेल का उत्पादन वित्त वर्ष 2016-17 में 2.58 प्रतिशत बढ़कर 59.7 लाख टन रहा जो इससे पूर्व वित्त वर्ष में 58.2 लाख टन था।
ONGC के निवर्तमान चेयरमैन और प्रबंध निदेशक दिनेश के सर्राफ ने 24वें सालाना आम बैठक को संबोधित करते हुए कल कहा, ‘‘आनशोर फील्ड से कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट की प्रवृत्ति बदली हैl और मुझे भरोसा है कि कंपनी वित्त वर्ष 2017-18 में वृद्धि के रास्ते पर लौट आएगी।’’
हालांकि ONGC का एकल आधार पर सभी घरेलू क्षेत्रों से कच्चे तेल का उत्पादन 2016-17 में इससे पूर्व वित्त वर्ष के मुकाबले घटा है। एकल आधार पर कच्चे तेल का उत्पादन आलोच्य वित्त वर्ष में 2.225 करोड़ टन रहा जो इससे पूर्व वित्त वर्ष में 2.236 करोड़ टन था।सर्राफ के अनुसार गैस उत्पादन घरेलू क्षेत्रों से पिछले वित्त वर्ष में 22.09 अरब घन मीटर (बीसीएम) रहा जो इससे पूर्व वित्त वर्ष में 21.18 अरब घन मीटर था।
उन्होंने कहा कि कंपनी गैर-परंपरागत और वैकल्पिक ईंधन के क्षेत्र में शैल गैस और कोयला खानों से मिथेन गैस निकालने (सीबीएम) के क्षेत्र में काम बढ़ा रही है। कंपनी अपने बोकारो स्थित कोल फील्ड से सीबीएम का उत्पादन शुरू कर चुकी है। इसके अलावा नार्थ करणपुरा और झरिया में भी काम जारी है।
शैल गैस के क्षेत्र में कंपनी ने मार्च 2017 तक 22 कुओं के आकलन किये। इसमें से पांच पूरी तरह शैल गैस के लिये हैं। ये कुएं कैम्बे, केजी बेसिन, कावेरी और ए एंड एएए बेसिन में स्थित हैं। इसके अलावा कंपनी सरकार के गैस हाइड्रेट कार्यक्रम के तहत गैस हाइड्रेट के क्षेत्र में भी संभावना तलाश रही है।
कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष में 23 तेल एवं गैस क्षेत्रों की खोज की। इसमें से आनशोर स्थित 13 में से आठ में उत्पादन का काम शुरू हो गया है। सर्राफ ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की एचपीसीएल में सरकार की 51.1 प्रतिशत की हिस्सेदारी की खरीद से कंपनी रिफाइनिंग और विपणन के क्षेत्र में भी मजबूती से काम कर सकेगी।
ओएनजीसी के निदेशक मंडल ने एचपीसीएल में हिस्सेदारी के अधिग्रहण की मंजूरी दे दी है।कंपनी का शुद्ध लाभ वित्त वर्ष 2016-17 (रिपीट 2016-17) में 17,900 करोड़ रुपये रहा जो इससे पूर्व वित्त वर्ष में 16,140 करोड़ रुपये था।

राज्‍यों से जुड़ी हर खबर और देश-दुनिया की ताजा खबरें पढ़ने के लिए नार्थ इंडिया स्टेट्समैन से जुड़े। साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप को डाउनलोड करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button

sbobet

Power of Ninja

Power of Ninja

Mental Slot

Mental Slot