विश्‍व

Israel Attack : गाजा पट्टी में कई दिनों तक बिना खाना खाये रह रहे बच्चे, जानवरों के चारे को पीसकर बना रहे आटा

गाजा। इजरायली हमलों से गाजा पट्टी में बच्चों को कई दिनों तक भोजन के बिना रहना पड़ रहा है। क्योंकि सहायता काफिलों को प्रवेश की अनुमति नहीं दी जा रही है। गाजा के स्थानीय लोगों ने बताया कि यहां के कुछ लोगों ने भूख से निजात पाने के लिये जानवरों के चारे को पीसकर आटा बना लिया है और पीने के पानी तथा कपड़े धोने के लिए पानी के पाइप तक पहुंचने के लिए जमीन में खुदाई कर ली है। संयुक्त राष्ट्र की मानवीय समन्वय एजेंसी ने बताया कि उत्तरी गाजा में करीब 15 प्रतिशत छोटे बच्चों में कुपोषण तेजी से बढ़ रहा है।

गाजा में सहायता पहुंच के समन्वय का काम करने वाली इजरायली सैन्य एजेंसी के एक प्रवक्ता ने पिछले महीने संवाददाता सम्मेलन में कहा था, “गाजा में कोई भुखमरी नहीं है।” विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) ने बताया कि उत्तर में पिछले पांच सहायता काफिलों में से चार को इजरायली बलों ने रोक दिया था। डब्ल्यूएफपी के क्षेत्रीय प्रमुख मैट हॉलिंगवर्थ ने कहा, “हम जानते हैं कि अगर हम नियमित आधार पर बहुत महत्वपूर्ण मात्रा में खाद्य सहायता प्रदान नहीं करते हैं तो गाजा में अकाल का बहुत गंभीर खतरा है।”

मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (ओचा) ने कहा कि उत्तरी गाजा तक पहुंच से वंचित सहायता मिशनों की संख्या में तेज वृद्धि हुई है। दक्षिण में, सीमावर्ती शहर राफा में, अन्य जगहों पर लड़ाई के कारण विस्थापित हुए10 लाख से अधिक लोग अब शहर के तीन लाख निवासियों के साथ जगह के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

इज़रायल की सेना नियमित रूप से गाजा के दक्षिणी केंद्रों में व्यस्त बाजारों और रेस्तरां में 114 सहायता मिशनों में से अधिकांश पिछले महीने पहुंचने में कामयाब रहे। लेकिन, निवासियों और सहायता एजेंसियों का कहना है कि कई लोग अभी भी भूखे रह रहे हैं और आश्रय, स्वच्छता तथा चिकित्सा देखभाल की कमी के कारण सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट मंडरा रहा है।

मैट हॉलिंगवर्थ ने कहा, “हमें कानून और व्यवस्था के मुद्दे को हल करने की जरूरत है, ताकि हमें अन्य लोगों तक पहुंचने के लिए बेहद भूखे लोगों की भीड़ के बीच अपना रास्ता तय नहीं करना पड़े, जिन तक हमें पहुंचना अभी बाकी है। शायद यह असहायता का स्तर है जो मुझे चिंतित करता है। लोगों ने उम्मीद खो दी है।”

कई लोग इज़राइल और हमास के बीच समझौते को गाजा में अधिक सहायता प्राप्त करने और इज़रायली बंधकों को बाहर निकालने का एकमात्र तरीका मानते हैं। जैसा कि इजरायल ने व्यापक रूप से अपेक्षित जमीनी हमले से पहले राफा पर बमबारी की है, दोनों पक्षों के नेताओं पर गाजा में फंसे लोगों की पीड़ा को समाप्त करने का दबाव है।

राज्‍यों से जुड़ी हर खबर और देश-दुनिया की ताजा खबरें पढ़ने के लिए नार्थ इंडिया स्टेट्समैन से जुड़े। साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप को डाउनलोड करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button

sbobet