विविध

कारों पर GST उपकर बढ़ाने के लिये अध्यादेश लाने को मंजूरी

नई दिल्ली। केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने नई माल एवं सेवाकर (GST) व्यवस्था के तहत महंगी बड़ी कारों और एसयूवी पर उपकर बढ़ाने के लिये अध्यादेश लाने को आज मंजूरी दे दी। मंत्रिमंडल के समक्ष इस तरह की कारों पर उपकर को मौजूदा 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत करने का प्रस्ताव है। केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद एक सूत्र ने बताया, ‘‘ऊंची दर से उपकर लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है।’’ जीएसटी परिषद ने पांच अगस्त को हुई अपनी बैठक में एसयूवी, मध्यम एवं बड़े आकार की लक्जरी कारों पर उपकर बढ़ाने को मंजूरी दे दी थी। जीएसटी लागू होने के बाद इन वाहनों के दाम कम हो गये।

बहरहाल, उपकर बढ़ाने के लिये जीएसटी (राज्यों को क्षतिपूर्ति) अधिनियम 2017 की धारा आठ में संशोधन करना होगा। जीएसटी लागू होने से पहले लक्जरी कारों पर सबसे ज्यादा कर की दर 52 से लेकर 54.72 प्रतिशत तक थी। इसमें 2.5 प्रतिशत केन्द्रीय बिक्री कर और चुंगी का शामिल किया गया था। इसके विपरीत जीएसटी लागू होने के बाद ऐसे वाहनों पर अधिकतम कर की दर 43 प्रतिशत रह गई है। इसलिये कर की दर को जीएसटी-पूर्व के स्तर तक लाने के लिये उच्चतम क्षतिपूर्ति उपकर की दर को 25 प्रतिशत तक करना होगा।

यही वजह है कि जीएसटी लागू होने के बाद ज्यादातर एसयूवी वाहनों के दाम 1.1 लाख से लेकर तीन लाख रुपये तक कम कर दिये गये। देश में जीएसटी एक जुलाई 2017 से लागू हो गया है। जीएसटी में केन्द्र और राज्यों के स्तर पर लगने वाले करीब एक दर्जन करों को समाहित कर लिया गया है। बहरहाल, उपकर बढ़ने के बाद लक्जरी और एसयूवी वाहनों के दाम में की गई कटौती वापस हो सकती है। जीएसटी कानून में लक्जरी सामानों जैसे की कार और दूसरे अहितकर उत्पाद जैसे की तंबाकू आदि पर जीएसटी के अलावा उपकर लगाया गया है ताकि राज्यों को होने वाले संभावित राजस्व नुकसान की भरपाई की जा सके।

 

राज्‍यों से जुड़ी हर खबर और देश-दुनिया की ताजा खबरें पढ़ने के लिए नार्थ इंडिया स्टेट्समैन से जुड़े। साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप को डाउनलोड करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button

sbobet