Airtel
Airtel

नई दिल्ली। देश की दूरसंचार क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी Airtel ने कारोबार जगत को साइबर सुरक्षा समाधान प्रदान करने के लिए सिमैंटेक कॉर्प के साथ गठजोड़ की आज घोषणा की। यह रणनीतिक गठबंधन ऐसे समय में किया गया है जब पिछले कुछ महीनों में साइबर हमलों में काफी तेजी आयी है। इन हमलों में पेट्या और वन्नाक्राय जैसे हमले शामिल हैं जिसने दुनिया भर में असर डाला था। रूस की सबसे बड़ी तेल कंपनी रोसनेफ्ट, यूक्रेन का अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, माल ढुलाई कंपनी एपी मॉलर-मेयर्स्क, विज्ञापन क्षेत्र की कंपनी डब्ल्यूपीपी समेत कई बड़ी कंपनियां इस साल जून में साइबर हमले का शिकार बनी थी।

साइबर जोखिम के इस माहौल में बड़ी एवं छोटी हर तरह की कंपनियां अपने परिचालन को सुदृढ़ करने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) सुरक्षा को लेकर निवेश को प्राथमिकता देने लगी हैं। देश में डिजिटलीकरण बढ़ने तथा डिजिटल भुगतान की स्वीकार्यता में तेजी आने के कारण ऑनलाइन खतरों से बचाव अधिक महत्वपूर्ण हो गया है। सिमैंटेक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ग्रेग क्लार्क ने इस तरह के हमले करने की साइबर अपराधियों की मुखरता का हवाला देते हुए कहा, ‘‘हम इस समय साइबर अपराध और साइबर हमलों का अप्रत्याशित स्तर देख रहे हैं। हम इसका अभी और उभरना तय मान रहे हैं। यह दशकों तक लगातार राजस्व को नुकसान पहुंचाता रहेगा। साइबर अपराध अब अपराध की दुनिया का नया प्रयोग है और युद्ध का नया तरीका है, जो हमारे साथ सदियों तक रहने वाला है। हमारा मानना है कि यह करार इस उभार का फायदा उठाने की अच्छी स्थिति में है।’’

भारती एयरटेल के प्रबंध निदेशक और सीईओ (भारत एवं दक्षिण एशिया) गोपाल विट्टल ने कहा कि अब तक कंपनी सिमैंटेक की उपभोक्ता हुआ करती थी अब इस भागीदारी से दोनों पक्षों को मौका मिलेगा कि सुरक्षा समाधानों को बाजार के लिए उपलब्ध करा सकें। हालांकि, दोनों कंपनियों ने इस गठबंधन के जरिये आने वाले वर्षों के लिए लाक्षित राजस्व के बारे में कोई अनुमानित आंकड़ा नहीं दिया।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.