China Visit
China Visit

Donald Trump को चीन ने एक ही दिन में अपनी रंगत दिखा दी।

China Visit-1
China Visit-1

चीन के राष्ट्रपति शी-चिनफिंग ने शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump को ठेंगा दिखा दिया। उन्होंने कहा कि वैश्वीकरण और मुक्त व्यापार अब आपस में सम्पन्न ना होने वाली व्यवस्था हैं।

हॉं, इसमें संतुलन स्थापित होना चाहिए और सभी के हितों का ध्यान रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति Donald Trump की नीति ‘अमेरिका फर्स्ट’ की है।

टीम का कथन: प्रत्येक राष्ट्राध्यक्ष की नीति यही होती है, फिर इसमें ऐसी क्या बुराई है जो चीन के राष्ट्रपति शी-चिनफिंग को समझ में नहीं आ रही है? क्या वो चीन फर्स्ट की नीति नहीं अपनाते?

इसी के चलते वह उन व्यापार समझौतों से पीछे हट रहे हैं, जिनमें आयात-निर्यात का असंतुलन है। ट्रम्प ने यह अंतर खत्म करने की वकालत जापान में भी की और चीन में भी। इससे पहले बैठक में Donald Trump ने कहा था कि अमेरिका अब और असंतुलन बर्दाश्त नहीं करेगा।

वह छल से होने वाला व्यापार नहीं सहेगा। Donald Trump ने यह अंतर खत्म करने की वकालत जापान में भी की व चीन में भी। इससे पहले वह 11 देशों के साथ हुआ अंतर प्रशांत व्यापार समझौता (टीपीपी) रद कर चुके हैं।

सत्‍ता पर काबिज होने के बाद Donald Trump ने चीन को जिस मुद्दे पर घेरने की कोशिश की थी वह थी ‘वन चाइना पॉलिसी’। उनका कहना था कि चीन की तरफ से रियायतें मिले बिना इसे जारी रखने का कोई मतलब नहीं बनता।

वन चाइना पॉलिसी का मतलब ये है कि दुनिया के जो देश पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (चीन) के साथ कूटनीतिक रिश्ते चाहते हैं, उन्हें रिपब्लिक ऑफ चाइना (ताइवान) से सारे आधिकारिक रिश्ते तोड़ने होंगे। ये नीति कई दशकों से अमरीका-चीन संबंधों का अहम आधार रही है।

इस नीति के तहत अमेरिका ताइवान के बजाय चीन से आधिकारिक रिश्ते रखता है, लेकिन ताइवान से उसके अनाधिकारिक, पर मजबूत रिश्‍ते हैं। वन चाइना पॉलिसी के चलते ही अमेरिका की तरफ से चीन को व्‍यापार में कई तरह की रियायतें भी दी जाती रही हैं।

लेकिन इसके उलट अमेरिका को चीन व्‍यापार में कोई रियायत नहीं देता है। सत्‍ता पर काबिज होने के बाद से ही ट्रंप इस पालिसी पर अपना विरोध दर्ज कराते रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump ने एपेक (एशिया पैसिफिक इकोनोमिक को-ऑपरेशन) के मंच से पीएम नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ की। उन्होंने एपेक के सम्मेलन से इतर शुक्रवार को मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए भारत की ‘असाधारण’ आर्थिक प्रगति की भी सराहना की।

साथ ही एशिया-पैसिफिक के बजाय ‘इंडो-पैसिफिक’ की पैरोकारी कर दुनिया और क्षेत्रीय ताकतों को जबरदस्त संदेश दिया। Donald Trump एशियाई दौरे के तहत वियतनाम की पहली यात्रा पर पहुंचे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump ने कहा कि पीएम मोदी, भारत जैसे एक विशाल देश के लोगों को साथ लाने की दिशा में सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं।

Donald Trump के मुताबिक, एपेक से बाहर के देश भी इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में जबरदस्त प्रगति कर रहे हैं। ट्रम्प ने कहा, अर्थव्यवस्था को बाहरी दुनिया के लिए खोलने के बाद से भारत ने असाधारण विकास किया है। इससे देश में लगातार बढ़ रहे मध्य वर्ग के लिए मौकों की नई दुनिया सृजित हुई है।

भारत स्वतंत्रता की 70वीं वर्षगांठ मना रहा है, जो यह दर्शाता है कि एक सौ तीस करोड़ की जनसंख्या वाला यह देश सफल संप्रभु लोकतांत्रिक राष्ट्र है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.