उत्तर प्रदेशफ्लैश न्यूज

सीएम योगी का अखिलेश को करारा जवाब, हमारी नीति-नीयत साफ, जो कहते हैं करते हैं

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के अंतर्गत पांचवें दिन सदन की कार्यवाही में राज्यपाल के अभिभाषण पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धन्यवाद भाषण दिया. कहा, राज्यपाल को आभिभाषण के लिए उनका आभार व्यक्त करता हूं. मैं नेता प्रतिपक्ष के भाषण के दौरान सदन में मौजूद था. मुझे उम्मीद थी कि वह सदी की सबसे बड़ी घटना के विषय में भी कुछ बोलेंगे.

हालांकि वह कुछ भी नहीं बोले. महर्षि वेद व्यास ने एक बात कही थी, वह ऐसे ऋषि थे, जिन्होंने भारत की ज्ञान की परंपरा को विस्तार देकर संरक्षित करने का काम किया. इसलिए उनकी जयंती को हम गुरु पूर्णिमा मनाते हैं. उन्होंने कहा था कि महाभारत काल की आठ पीढ़ियों को उन्होंने देखा और संरक्षित किया था. 2017 के पहले उत्तर प्रदेश के लिए चार-चार बार शासन करने वालों ने पहचान का संकट खड़ा कर दिया था. प्रदेश से बाहर युवा जाता था, तो हेय दृष्टि से देखा जाता था. किराए पर कमरे तो दूर होटल भी नहीं मिलते थे. आज लोगों ने 22 जनवरी 2024 की घटना को भी देखा है. आज हर एक सनातनी अभिभूत है.

हमें प्रसन्नता इस बात की थी कि प्रभु राम के भव्य मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हुई. हमने जो कहा था वह करके भी दिखाया. हम केवल बोलते ही नहीं हैं, करके भी दिखाते हैं. यह कामन बहुत पहले हो जाना चाहिए था. हम मानते हैं कि अयोध्या विवाद कोर्ट में था, लेकिन सड़कों और घाटों को तो चौड़ा किया जा सकता था. बिजली तो दी जा सकती थी. एयरपोर्ट तो बनाया जा सकता था. कौन सी मंशा थी कि अयोध्या और काशी का विकास ही अवरुद्ध रखा गया. यह तो मुद्दा नियत का है. हमारी आस्था थी और नीति भी साफ थी. हमने बिना रुके और डिगे काम किया. हम अयोध्या और काशी गए हैं, तो नोएडा और बिजनौर भी गए हैं. हमें कोई डर नहीं है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सदियों तक अयोध्या सुनियोजित तिरस्कार भी झेलती रही. अयोध्या के साथ अन्याय हुआ. जब मैं अन्याय की बात करता हूं, तो हमें पांच हजार साल पहले की बात याद आती है. पांडवों के साथ भी अन्याय हुआ था. यहां तक कि दुर्योधन में श्रीकृष्ण को बंधक बनाने का भी प्रयास किया था. यही अयोध्या, काशी और मथुरा के साथ हुआ है. कृष्ण ने सिर्फ पांच गांव मांगे थे और यहां तो करोड़ों की आस्था सिर्फ तीन की बात कर रही है. यह स्थान सामान्य नहीं हैं. ईश्वर के अवतरण की धरती है. भारत में लोक आस्था का निरादर हो और बहुसंख्यक गिड़गिड़ाएं और बार-बार गुहार लगाएं. अयोध्या की बात हुई तो नंदी बाबा ने कहा कि हम क्यों इंतजार करें. हमारे कृष्ण कन्हैया भी कहां मानने वाले हैं.

सुप्रीम कोर्ट की वकील सुबोही खान ने कहा है हमारा धर्म भले ही इस्लाम हो, लेकिन हम सब सनातनी हैं. आज हम उन आक्रांताओं का महिमामंडन करें यह स्वीकार्य नहीं है. महाभारत का युद्ध हुआ तो कौरव सेना समाप्त हो गई. लाक्षाग्रह का भी अपना इतिहास है. न्यायालय के फैसले का सम्मान होना चाहिए. आज अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट है. चार अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट वाला प्रदेश बन गया है उत्तर प्रदेश. शबरी भोजनालय और निषादराज के नाम पर स्थान बन रहे हैं. यह पीडीए से आते हैं या नहीं. अभी ब्रजेश पाठक ने कहा कि पीडीए का मतलब है कि परिवार डेवलपमेंट अथारिटी.

मुख्यमंत्री ने शिवपाल पर चुटकी लेते हुए कहा कि आप तो चच्चू को ही भूल गए. यदि प्रभु राम को यह लोग मानते तो चच्चू के साथ अन्याय नहीं करते. अयोध्या के तमाम घाट नए स्वरूप में आ चुके हैं. राम की पैड़ी के दर्शन करने योग्य हैं. भरत कुंड, सूरज कुंड आदि भी अयोध्या में देखने योग्य हैं. एक टाउनशिप भी बन रही है. धर्मशाला अवंटन की कार्यवाही भी वहां चल रही है.

अयोध्या में मात्र एक मंदिर नहीं था, बल्कि वहां से राष्ट्र मंदिर मार्ग के निर्माण का रास्ता प्रशस्त हुआ है. 1894 में संतों के नेतृत्व में जो लड़ाई लड़ी गई, उसकी परिणीति के रूप में अयोध्या में मंदिर तैयार हुआ है. अब तक 36 लाख लोग अयोध्या दर्शन करने आ चुके हैं. नेपाल और फिजी के प्रतिष्ठित लोग अयोध्या आ रहे हैं. अब हर व्यक्ति अब कहने को मजबूर है कि ‘अयोध्यापुरी अति रुचिर बनाई’. पहले यहां कर्फ्यू लगता था, बैरियर होते थे. यही देश ने देखा है.

अयोध्या दुनिया की सांस्कृतिक राजधानी बनने की ओर अग्रसर है. सरकार भी इस ओर हर संभव प्रयास कर रही है. हम परिक्रमा को एक भव्य रूप देने जा रहे हैं. अब वहां कर्फ्यू नहीं लगाया जाएगा. वोट बैंक के लिए आस्था पर चोट की जाती थी. प्रयागराज कुंभ में तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्ष आए थे और सबने उसकी सराहना की थी. पहली बार प्रयागराज में अक्षयवट के दर्शनों की व्यवस्था की गई. सरस्वती कूप भी लोगों ने देखा.

आगामी कुंभ के लिए हम हर संभव प्रयास कर रहे हैं. आज डबल इंजन सरकार के कारण ही हम नहीं काशी का दर्शन कर रहे हैं. हम 2025 में होने वाले कुंभ मेले के लिए युद्धस्तर पर तैयारी कर रहे हैं. इस माघ मेला में चालीस लाख लोग स्नान कर चुके हैं. अयोध्या का दीपोत्सव, ब्रज का रंगोत्सव पूरे देश में अपनी पहचान बना रहे हैं. तमाम तीर्थों में विकास परिषदों का भी गठन किया गया है. सौ साल बाद काशी में मां अन्नपूर्णा की मूर्ति स्थापित हो सकी है. अलग-अलग परिपथों का काम भी चल रहा है. इसका परिणाम है कि लगभग साढ़े छह करोड़ लोग काशी आए, तो छह करोड़ लोग मथुरा-वृंदावन आए. अन्य तीर्थों में भी लाखों लोग आए.

हम हेरिटेज टूरिज्म को बढ़ाने के लिए लगातार काम कर रहे हैं. पहले प्रदेश की गिनती नहीं होती थी. आज प्रदेश देश में नंबर एक पर है. प्रदेश की अर्थव्यवस्था तेजी से आगे बढ़ रही है. आज प्रधानमंत्री ने लोगों से पंच प्रण के सिद्धांत पर चलने का आग्रह किया है. हमने सुशासन करके दिखाया है. प्रदेश के सुशासन के लक्ष्यों की प्राप्ति में कानून व्यवस्था ने अहम रोल रहा है. हमने जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है. हमने पुलिस में भी भर्तियां कीं.

सात पुलिस कमिश्नरेंट बनाए. सभी जिलों में साइबर सेल के थाने बनाए. एडवांस फॉरेंसिक लैब बनाए. हमने लखनऊ में फॉरेंसिक इंस्टीट्यूट की भी स्थापना की है, जिसका सत्र भी आरंभ हो चुका है. हमने पुलिस प्रशिक्षण केंद्रों की क्षमता वृद्धि भी की है. पहली बार महिला पुलिस कर्मियों को भी फील्ड की ड्यूटी दी गई है. बड़े संस्थानों की सुरक्षा के लिए एसएसएफ का गठन किया गया है. अयोध्या में भी यही बल सुरक्षा संभाल रहा है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं के विषय में विपक्ष की क्या स्थित है यह हम सबने देखा. एक महिला राज्यपाल, जो इतनी वरिष्ठ हैं, के अभिभाषण के दौरान विपक्षी सदस्यों का आचरण इनके महिला सम्मान को दर्शाता है. महिला संबंधी मुद्दे पर जब आप बोल रहे थे, तो मैंने सोचा शायद कुछ हो. हालांकि आज महिला वर्क फोर्स 33 प्रतिशत हो गई है.

प्रयागराज कुंभ से पहले हम गंगा एक्सप्रेस वे शुरू करने का प्रयास कर रहे हैं. 1235 प्रोजेक्ट बढ़ाए गए हैं, जिससे प्रदेश में बेहतर कनेक्टिविटी हुई है. पहले दो एयरपोर्ट क्रियाशील थे, अब दस क्रियाशील हैं और 11वां भी शीघ्र शुरू होने वाला है. यहां रोज डेढ़ सौ उड़ानें प्रदेश से उड़ान भरती हैं. हम इनलैंड वॉटर वे पर काम कर रहे हैं. प्रदेश अब निवेश का एक ड्रीम डेस्टिनेशन भी बन चुका है. आज उसी का परिणाम है कि लगभग चालीस लाख के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए थे. इसी 19 फरवरी को हम ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी करने जा रहे हैं, जिसमें दस लाख करोड़ के प्रस्ताव जमीन पर उतरने जा रहे हैं.

अखिलेश यादव ने सदन में सरकार पर बोला हमला: इससे पहले नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने सरकार पर हमला बोला. कहा कि उत्तर प्रदेश कार्यवाहक डीजीपी बनाने में सबसे आगे है. अपने लोगो पर मुकदमा हटाने में उत्तर प्रदेश आगे है, गरीबों का हक छीनने में, लगी लगाई नौकरी छीनने में भू-माफिया को सत्ता का संरक्षण देने में यूपी नंबर वन है. पीडीए को प्रताड़ित करने में भी सरकार नंबर वन है.

नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि इस डबल इंजन की सरकार में विकास नहीं दिखता, भाजपा ने किसानों के साथ धोखा किया है, किसानो के हित में सिर्फ सपा सरकार ने काम किया है. आवारा पशुओं के कारण फसल नहीं बच रही हैं. सरकार बताए कि उत्तर प्रदेश में कहीं भी एक मंडी बनाई हो. फसल बीमा के नाम पर लूट जारी है. अब बताईए किसान खेती करे या आंदोलन.

सरकार बताए कि क्या फार्मूला है जिससे किसानों की आय दोगुनी होगी, आय दोगुनी करने के नाम पर आय छीन ली गई है, किसानों की उम्र आधी हो गई है. क्या किसान सम्मान निधि से सिर्फ आय दोगुनी होगी, सरकार नौकरी देने की बात करती है लेकिन कोई व्यवस्था नही है. सबसे बड़ा धोखा नौजवानों के साथ हुआ है.

नेता जी ने फैसला लिया था कि फौज के लिए सरकार काम करेगी, पहला अग्निवीर शहीद हुआ तो उसको वो सम्मान नहीं दिया गया जो देना चाहिए. उत्तर प्रदेश का अगर कोई शहीद होता है तो कोई नहीं जाता, इज ऑफ लिविंग की बात हुई है, इसको कैसे डिफाइन करेंगे. सरकार बोल रही है कि 3 करोड़ लोग गरीबी से बाहर आ गई है, सरकार बताए कहाँ, कैसे..? जवाब छिपाने का काम सरकार करती है, सरकार सबको बराबर नहीं लाना चाहती है.

सरकार बोल रही है कि उत्तर प्रदेश ड्रीम डेस्टिनेशन है लेकिन, यह सिर्फ सपने में ही है. चुनाव के समय ग्राउंड ब्रेकिंग की बात हो रही है. सरकार रोजगार की बात कर रही, नौकरी की बात नहीं कर रही है. सरकार बताए कि सच में कितना निवेश आया है और कितनों को रोजगार मिलेगा. निवेश करने वाले दूसरे प्रदेश में ज्यादा निवेश कर रहे हैं. दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी उत्तर प्रदेश में क्यों नहीं आ रही, जो उत्तर प्रदेश में निवेशक आए उन्होंने दूसरे प्रदेश में निवेश करने को अधिक प्राथमिकता दी है.

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि भारत सरकार उत्तर प्रदेश में क्यों एक्सप्रेस-वे नहीं बना रही, गरोखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे अभी तक क्यों नहीं बना, जो काम हो भी रहा है, वह मानक पर नहीं हो रहा. सभी जानते है कि सबसे अच्छा एक्सप्रेस-वे कौन सा बना है. अयोध्या में अधिकारियों ने जमीन लेने के मामले में व्यापारियों और आम आदमियों का शोषण किया है. अयोध्या से ज्यादा जीमनो का गोरखधंधा कहीं नहीं हुआ.

जिस तरह का विकास होना चाहिए, वो सरकार नहीं कर रही. आखिरकार रोजगार कहाँ है. सरकार बोल रही है 1.80 लाख जनसेवा प्रदेश में संचालित हैं , तो लोगों को जमीन मामले में आत्मदाह क्यो करना पड़ रहा है,अभी तक सरकार ने कोई थर्मल प्लांट नहीं लगाया है, जो बिजली आज आ भी रही है, वो प्लांट सपा सरकार ने लगाए थे.

अखिलेश यादव ने कहा कि यूनिवर्सिटी की बात सरकार करती है, लेकिन पीडीए को कुछ नहीं मिल रहा है, महिला आयोग में पीडीए कितना है, यूनिवर्सिटी की नौकरी में पीडीए कितना है, सरकार पीडीए पर नहीं बोलेगी, जब से भाजपा सरकार आई है तब से सिर्फ एक सैनिक स्कूल बना है, इस सरकार में कोई आईआईएम नहीं आया.

अखिलेश यादव ने कहा कि नमामि गंगे में बहुत काम हुआ, लेकिन दिख नहीं रहा है, जितनी जमीन नहीं है उससे ज्यादा पेड़ लग गए हैं. लॉयन सफारी सरकार ने बनाई, ऐसी बनाई कि 16 जानवरों की मौत हुई. सरकार ने कहा था कि अटल जी के नाम पर मेडिकल यूनिवर्सिटी बनेगी, आज तक न बनी, कैंसर इंस्टीट्यूट के लिए क्या किया सरकार ने, सरकार कुछ ही लोगों को सब कुछ देना चाहती है.

सरकार लोहिया इंस्टीट्यूट में परमानेंट डायरेक्टर नहीं दे पा रही है. सरकार का कोई भी मेडिकल कॉलेज मानकों पर काम नहीं कर रहा है. जीरो टॉलरेन्स की बात करती है सरकार फिर महिला सुरक्षित क्यों नहीं, बनारस मामले में क्या कर रही सरकार, बनारस मामले के आरोपी की फोटो मुख्यमंत्री जी के साथ है, bjp आईटी सेल से जुड़े हैं तीनों आरोपी, कानपुर की घटना पर सरकार ने क्या किया.

इससे पहले विधानसभा सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने पहुंचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि राहुल गांधी और अखिलेश यादव 2017 में दो लड़कों की जोड़ी के रूप में आए थे. 2017 में सपा और कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया था. 2019 में सपा, बसपा कांग्रेस सब साथ थे तब भी सूपड़ा साफ हुआ था. 2024 में साथ-साथ आएं चाहे अलग-अलग लडें, बीजेपी ही जीतेगी.

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचारियों की चूल्हे हिल रही हैं. भ्रष्टाचारियों को छोड़ेंगे नहीं. आरएलडी जब साथ आएगी तब बताएंगे. श्री राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की विरोधी समाजवादी पार्टी है. राम भक्तों पर गोली चलवाने वाली सपा सरकार है. 1993 में ज्ञानवापी में व्यास जी के तहखाना को भी सपा सरकार ने बंद कराया था. विरोध करने वाले सपा विधायकों को भगवान सद्बुद्धि दें. 2024 में शिव भक्त सपा को सजा देंगे.

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने कहा कि इंडिया गठबंधन सत्ता लोलुप लोगों का समूह है. पीएम मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार की योजनाओं ने जन-जन तक पहुंच बनाई. इंडिया गठबंधन स्वार्थ का गठबंधन है इसीलिए टूट रहा है.

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने कहा कि भगवान राम लला अपने भव्य मंदिर में विराजमान हो चुके हैं. यूपी ने पूरी दुनिया को संदेश दिया है. कांग्रेस ने अपने शासनकाल में जो अन्याय किया उसका पश्चाताप करें. पिछली बार भी किनारे यात्रा पर निकले थे, इस बार भी पतली गली से निकलेंगे, जिन विधायकों ने प्रस्ताव के समर्थन में हाथ उठाया उनका आभार व्यक्त करते हैं. भगवान राम का समर्थन करने वाले विधायकों के घर में सुख संपत्ति आए.

बसपा विधायक उमाशंकर सिंह ने कहा कि लोकसभा चुनाव बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी. इंडिया गठबंधन टूट रहा है, यह गठबंधन टिकने वाला नहीं है. 11 फरवरी को राम मंदिर के दर्शन को लेकर कहा कि सभी दलीय नेताओं की बैठक हुई थी. सभी दल के लोगों ने कहा था 22 जनवरी को बड़ा आयोजन था, सफल हो गया हर अच्छे काम की प्रशंसा होनी चाहिए. उत्तर प्रदेश में अगर कोई चीज जानी जा रही है तो यह प्रशंसा विषय है, राम मंदिर दर्शन करने विधानसभा अध्यक्ष के नेतृत्व में हम जाएंगे. भव्य बाबरी मस्जिद बनती है तो हम वहां भी जाएंगे.

मुख्यमंत्री ने किया एसबीआई की विधान भवन शाखा का उद्घाटन
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधान भवन के गेट नंबर-9 पर स्थित भारतीय स्टेट बैंक की नई शाखा का बुधवार को फीता काटकर उद्घाटन किया. सीएम ने शाखा का अवलोकन भी किया. इसके बाद यहां तैनात कर्मचारियों से मुलाकात की और यहां से जुड़ी जानकारी भी ली. इसके बाद उन्होंने समूह फोटो भी खिंचवाई. बैंक द्वारा प्रदेश भर में ओडीओपी के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी गई. सीएम ने ललितेश यादव को 15 लाख का चेक प्रदान किया. बैंक के अधिकारियों ने सीएम योगी को अंगवस्त्र व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया. इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना, वित्त मंत्री सुरेश खन्ना, मुख्य सचिव दुर्गाशंकर मिश्रा समेत अनेक प्रशासनिक अधिकारी व बैंक के अधिकारी आदि उपस्थित रहे.

बता दें कि आज बुधवार को सदन की कार्यवाही के एजेंडे में सपा पक्ष और विपक्ष के सदस्यों के साथ ही नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव व नेता सदन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा करेंगे. इसके अलावा सदन की कार्यवाही में अन्य विधाई कार्य पूरे किए जाएंगे जिसमें प्रश्नकाल, याचिका विधायक नियम 151 सहित अन्य नियमों के अंतर्गत जनप्रतिनिधि सरकार से सवाल पूछेंगे.

विधानसभा के बजट सत्र के अंतर्गत 2 फरवरी को पहले दिन राज्यपाल के भाषण से सदन की कार्यवाही शुरू हुई थी, 3 फरवरी को दिवंगत विधानसभा सदस्यों को श्रद्धांजलि देते हुए शोक प्रस्ताव पारित किया गया था. 5 फरवरी को राज्य सरकार उत्तर प्रदेश के विकास को लेकर अपना अब तक का सबसे बड़ा बजट पेश किया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सदन में पेश किए गए 7.36 लाख करोड रुपए से अधिक के आकार वाले बजट को उत्सव उम्मीद और उद्योग वाला बजट बताया है जबकि विपक्ष ने इस बजट को जनता को निराश करने वाला और 10% लोगों का ही बजट बताया था. उन्होंने कहा कि इस बजट से पिछड़े दलित अल्पसंख्यक समाज को निराशा हाथ लगी है। अखिलेश ने कहा था कि सरकार जो वादे करती है वह पूरे नहीं कर रही है इसकी झलक बजट में दिख रही है.

राज्‍यों से जुड़ी हर खबर और देश-दुनिया की ताजा खबरें पढ़ने के लिए नार्थ इंडिया स्टेट्समैन से जुड़े। साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप को डाउनलोड करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button

sbobet