A Symbol of Boldness.

- Advertisement -

BHU की उत्पीड़ित छात्रा ने सिर मुड़ाया

0

BHU (बनारस हिन्दू विवि) में पिछली शाम को हुए छेड़छाड़ के खिलाफ विवि की लड़कियों ने लंका सड़क जाम करके बीएचयू गेट बंद कर दिया। और सुबह 6 बजे से अनवरत सड़क पर प्रदर्शन कर रही हैं। उत्पीड़ित छात्रा ​सिर मुंड़ा कर विरोध में शामिल हुई।

दिनाँक 22 सितंबर 2017 दिन शुक्रवार को प्रातः 6 बजे से BHU गेट को बंद करके छात्राएं सड़क पर बैठी हुई हैं।छात्राओं से वार्ता को कोई प्रशासनिक या BHU प्रशासन का कोई भी प्रतिनिधि अबतक नहीं आया है। छात्राएं कुलपति से वार्ता की डिमांड कर रही हैंl और सुरक्षाधिकारी(चीफ प्रॉक्टर) को हटाने की मांग कर रही हैं।

BFA 2nd वर्ष की छात्रा कल(21 सितंबर) की शाम को डिपार्टमेंट से हॉस्टल वापस आते समय शोहदों की छेड़छाड़ का शिकार हुई थी। वहीं कुछ दूरी पर बैठे हुए सुरक्षाकर्मी इस ओर ध्यान नहीं दिएl लड़की द्वारा शिकायत करने पर भी यह कहकर टाल दिए कि,” इतनी शाम को तुम्हें बचकर चलना चाहिएl छात्रा वापस हॉस्टल गयी और दोस्तों से बातचीत के क्रम में छात्राएं आक्रोशित हुईंl छात्राएं कल रात से ही आंदोलित हैं।

हॉस्टल में छात्र अधिष्ठाता (Dean Of Student) ज्ञापन लिए किन्तु कोई कारवाई नहीं हुई। उलटे छात्राओं को संभल कर चलने-फिरने की हिदायत दी। छात्राओं में गहरा आक्रोश व्याप्त फैला और सुबह 6 बजे से BHU मेन गेट बंद करके सैकड़ो छात्र-छात्राएं सड़क पर प्रदर्शन कऱ रहे हैं। वीसी प्रोo जीoसीo त्रिपाठी अपने महिला विरोधी बयानों से लगातार कटघरे में हैं। बीएचयू महिला छात्रावासों में कर्फ्यू टाइमिंग जिसमें की शाम 08:00 पर लड़कियों को हॉस्टलों में बंद हो जाना होता है।

लड़कों के हॉस्टल में धड़ल्ले से नॉनवेज मिलता है। जबकि लड़कियां नॉनवेज से भी वंचित रखी जाती हैं।

इस तरह के आंदोलन पिछले सत्र में परिसर में चले हैंl संसद तक में मानo सांसद, श्रीमती जया बच्चन, अली अनवर साहब, शरद यादव जी, आनंद शर्मा आदि ने संसद तक में बात उठाई है।

मार्च 2017 में महिला महाविद्यालय बीएचयू में बोले कि “मेरे लिए बेटी वो है जिससे पूछा जाए कि उसके लिए उसका कैरियर महत्वपूर्ण है कि उसके भाई का? तो वो लड़की बोले मेरा नही, भाई का ज्यादा महत्वपूर्ण है!” दुखद पहलु रहा की कल शाम से ही लगातार बात करने के बावजूद जब प्रशासन की ओर से कोई लिखित आश्वासन की बात सामने नहीं आई तो पीड़ित छात्रा ने प्रदर्शन स्थल पर अपना सिर मुँड़ाकर प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

ज्वाइन्ट ऐक्शन कमिटी की ओर से छात्र छात्राएं इस आंदोलन में पूरी तरह समर्थन दर्ज करा रहे हैंlऔर निम्नलिखित माँग करते हैं:-

1.To Insure Strict legal Action against unknown culprit.

2.Lighting up all the dark zones.

3.Continuous Roundup of guards from 1 square to           another.

4.Gender Sensitization of Administrative staff.

5.Hostel for all girls.

6.Relaxation in Curfew Timing of girl hostels.

7.To ensure cooperation and proper communication between administrative and support staffs and inmates of girl hostels.

8 To Take Action Against Irresponsible Security Personnel.

रामायण पटेल
संयोजक
ज्वाइन्ट एक्शन कमेटी, बीएचयू
9721906057, 9621177605

विशेष नोट:—

बेटी बचाओ—बेटी बढ़ाओ  के स्लोगन वाले मोदी जी के इस देश में बेटियों के साथ ऐसा व्यवहार,
वो भी School of National Importance  का दर्जा प्राप्त शिक्षा के इतने बड़े में। ऐसे मन्दिर के कुलपति
प्रो0 त्रिपाठी की ऐसी सोच को ये क्यों ना समझा जाये कि वे इस पद के योग्य ही नहीं हैं।
वो भी ऐसे समय जबकि इस देश के प्रधानमंत्री, दो दिवसीय दौरे पर बनारस में हैंl ऐसे आन्दोलन को खड़ा करना इस बात का सन्देश नहीं देता कि, वे जानबूझकर ऐसा प्रदर्शन छात्रों से कराना चाहते थे और बनारस में लॉ एण्ड आर्डर की प्राब्लम खड़ी करना चाहते हैंl जो निश्चित तौर पर उ0प्र0 के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी को भी सांसत में डालने की योजना है।
उस सुरक्षाधिकारी को बर्खास्त कर देना चाहिएl जिसने ये कहा कि-इतनी शाम को तुम्हें बचकर चलना चाहिए।
ये अधिकारी किस सुरक्षा के लिए तैनात किये गये हैं?

सम्पादक

- Advertisement -

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.