A Symbol of Boldness.

परियोजनाओं को निर्धारित समयावधि में पूर्ण किया जाना सुनिश्चित किया जाये—मुख्य सचिव

प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में गठित राज्य स्तरीय समिति की बैठक सम्पन्न हुई

0

लखनऊ। प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में गठित राज्य स्तरीय समिति की बैठक सम्पन्न हुई, जिसमें नवीन परियोजनाओं के प्रस्ताव, पूर्व स्वीकृत परियोजनाओं में स्थल परिर्वतन के प्रस्ताव, निर्माणाधीन परियोजनाओं की प्रगति आदि पर गहन विचार-विमर्श किया गया। बैठक में सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, विभिन्न विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव एवं अन्य वरिष्ठ प्रशासनिक व विभागीय अधिकारीगण तथा वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से सम्बन्धित जनपदों के जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी एवं सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

अपने सम्बोधन में मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत जितने भी प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं, उन सभी पर सम्बन्धित प्रशासकीय विभागों की सहमति अवश्य प्राप्त कर ली जाए। उन्होंने कहा कि जो परियोजनाएं निर्माणाधीन एवं अनारंभ हैं, सम्बन्धित प्रशासकीय विभाग उसकी समीक्षा करलें तथा यदि उनमें अनावश्यक विलम्ब हुआ हो तो इसके लिए सम्बन्धितों का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए कार्यवाही की जाये।

उन्होंने कहा कि स्वीकृत परियोजनाएं निर्धारित समय सीमा में ही पूर्ण की जाएं ताकि उन परियोजनाओं का लाभ जन सामान्य को जल्द से जल्द मिल सके। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत ऐसे ही प्रस्ताव लिए जाएं, जिनमें सृजित परिसम्पत्तियों के रख-रखाव व संचालन के लिए प्रशासकीय विभागों की स्पष्ट सहमति हो। मुख्य सचिव ने सम्बन्धित सभी प्रशासकीय विभागों से समय से धनराशि के उपभोग प्रमाण-पत्र उपलब्ध कराने को कहा ताकि केन्द्रांश समय से मिल सके और परियोजनाओं को पूरा करने में किसी भी प्रकार का अनावश्यक विलम्ब न हो।

बैठक का संचालन करते हुए प्रमुख सचिव समाज कल्याण बी.एल.मीणा ने बताया कि प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत अब तक कुल 1,10,929 परियोजनाएं पूर्ण की जा चुकी हैं। कार्यक्रम के अन्तर्गत जनपद फिरोजाबाद, मीरजापुर, कासगंज, भदोही, अलीगढ़, सुल्तानपुर, हरदोई, देवरिया, प्रतापगढ़, बदायूं, लखनऊ, आगरा, बुलन्दशहर, सिद्धार्थनगर, पीलीभीत आदि जनपदों में नये क्लस्टरों का चयन किया गया है।

प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत जारी गाइडलाइन में चिन्हित अल्पसंख्यक बाहुल्य जनपद एवं ब्लाॅक की प्रस्तावित योजनाओं की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि ऊर्जा विभाग से अंडरग्राउण्ड केबलिंग एवं ट्रांसफार्मर स्थापना के 5191 यूनिट लागत 93058.34 लाख रुपये, सोलर स्ट्रीट लाइट व हाईमास्ट लाइट की स्थापना यूनिट 2055 लागत 770.22 लाख रुपये, स्मार्ट क्लास सुविधाओं की स्थापना यूनिट 3062 लागत 7703.48 लाख रुपये, विद्यालयों में अतिरिक्त कक्ष निर्माण यूनिट 844 लागत 15105.79 लाख रुपये, विद्यालयों में बाउण्ड्रीवाॅल का निर्माण यूनिट 356 लागत 5149.42 लाख रुपये, विद्यालयों में फर्नीचर की स्थापना यूनिट 21463 लागत 4466.17 लाख रुपये, विद्यालयों में शाौचालय ब्लाॅक की स्थापन यूनिट 70 लागत 1420.18 लाख रुपये आदि सम्मिलित हैं।

इसके अतिरिक्त पूर्व में अनुमोदित क्लस्टरो में सोलर स्ट्रीट लाइट आदि 250 यूनिट लागत 89.69 लाख रुपये तथा विद्यालयों में स्मार्ट क्लास सुविधाओं की स्थापना यूनिट 509 लागत 21.39 लाख रुपये की परियोजनाएं भी प्रस्तावित की गयी हैं।

इसके अतिरिक्त नवीन चिन्हित क्लस्टरों में प्रस्तावित परियोजनाओं की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि ऊर्जा विभाग से यूनिट 110 लागत 2544.82 लाख रुपये, सौर ऊर्जा यूनिट 2758 लागत 743.07 लाख रुपये, विद्यालयों में स्मार्ट क्लास यूनिट 406 लागत 1501.85 लाख, सदभाव मण्डप यूनिट 33 लागत 7722.06 लाख रुपये, विद्यालयों में अतिरिक्त कक्ष यूनिट 45 लागत 1797.59 लाख रुपये, काॅमन सर्विस सेन्टर यूनिट 11 लागत 1540.00 लाख रुपये के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं।

इसके अलावा उन्होंने ऐसी परियोजनाओं का विवरण भी प्रस्तुत किया, जिनके लिए पदों के सृजन, संचालन एवं आवर्ती व्यय पर प्रशासकीय विभाग की सहमति आवश्यक हैं, उनमें प्रमुख रूप से महिला कल्याण, आयुष विभाग, बेसिक शिक्षा, स्वास्थ्य विभाग, पंचायती राज विभाग, पशुपालन, प्राविधिक शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा, व्यावसायिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, बाल विकास एवं पुष्टाहार, नगर विकास, उच्च शिक्षा, खेल, औद्योगिक विकास विभाग के प्रस्ताव शामिल है।

इन परियोजनओं की कुल यूनिट 4349 लागत 148314.23 लाख रुपये है। इसी प्रकार पूर्व में अनुमोदित क्लस्टरों में विभिन्न विभागों की 28 यूनिट लागत 17031.61 लाख रुपये के प्रस्ताव भी बैठक में प्रस्तुत किये गये। नवीन चिन्हित क्लस्टरों के लिए विभिन्न विभागों की परियेाजनाएं यूनिट 1373 लागत 51289.691 लाख रुपये के प्रस्ताव भी बैठक में रखे गये।

बैठक में जनपद रायबरेली, प्रतापगढ़, अमेठी, इटावा, गाजियाबाद एवं सन्त कबीरनगर से प्राप्त पूर्व स्वीकृत परियोजनाओं में स्थल परिवर्तन के प्रस्ताव भी प्रस्तुत किये गये, जिन पर नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये गए। बैठक में सांसद राजेन्द्र अग्रवाल द्वारा भी कार्यक्रम के क्रियान्वयन के सम्बन्ध में महत्वपूर्ण सुझाव दिये गये।

मीडिया कैम्प, मुख्य सचिव

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More