A Symbol of Boldness.

- Advertisement -

मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया वार्तालाप कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से सम्बोधित किया

0

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नारे ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ पर चलते हुए उत्तर प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए प्रतिबद्ध है और इस दिशा में निरन्तर कार्य करते हुए तेजी से आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का लक्ष्य उत्तर प्रदेश को देश का अग्रणी राज्य बनाने का है। इसके लिए सारे प्रयास किए जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर सोशल मीडिया वार्तालाप कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए इस नारे में सबका हित निहित है। प्रधानमंत्री के इस नारे ने देश को एक नया एहसास कराया। उत्तर प्रदेश में इस नारे का अक्षरशः पालन किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में वातावरण बदला हुआ है। प्रदेश में कानून का राज है। शासन की योजनाओं का लाभ सबको मिल रहा है। बिना भेदभाव सभी को समान रूप से जनहितकारी योजनाओं तथा शासन की नीतियों का लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सभी को कानून का पालन करना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सत्ता में आने के उपरान्त राज्य सरकार ने अपराधों के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाते हुए अपराधियों, माफियाओं के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की। इसका परिणाम है कि आज उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था में व्यापक सुधार हुआ है। आज प्रदेश के नागरिक स्वयं को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। प्रदेश में गुण्डागर्दी और अराजकता के खिलाफ मुहिम चलायी गयी, जो आज भी जारी है। इसके चलते प्रदेश में बड़े पैमाने पर निवेश आ रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार महिलाओं के सम्मान एवं सुरक्षा के प्रति अत्यन्त संवेदनशील है। राज्य में महिलाओं की सुरक्षा के लिए ‘मिशन शक्ति’ अभियान चलाया गया। एण्टी रोमियो स्क्वॉयड का गठन कर महिलाओं के खिलाफ अपराध करने वालों पर कड़ी कार्यवाही की गयी। आज महिलाएं उत्तर प्रदेश में सुरक्षित महसूस कर रही हैं। उन्हें सरकारी नौकरियों में बड़े पैमाने पर भागीदारी मिल रही है। पंचायत चुनावों में भी बड़ी संख्या में महिलाएं चुनी गयी हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा बड़े पैमाने पर युवाओं को रोजगार मुहैया कराया जा रहा है। साथ ही, बड़ी संख्या में सरकारी नौकरियों पर भर्तियां की गयी हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 1537 थानों में महिला हेल्प डेस्क स्थापित की गई हैं। इसी प्रकार 350 तहसीलों में भी महिलाओं के लिए ऐसी व्यवस्था की गयी है। राज्य सरकार ने ग्राम पंचायत स्तर पर महिला पुलिस बीट अधिकारियों की तैनाती की है। राज्य सरकार के निर्देश पर पंचायतीराज विभाग द्वारा ग्राम पंचायत स्तर पर महिला पुलिस बीट अधिकारियों के बैठने की व्यवस्था की गई है। ये महिला पुलिस बीट अधिकारी गांव-गांव जाकर महिलाओं की समस्या सुनेंगी।

पुलिस भर्ती में 20 प्रतिशत महिलाओं को स्थान दिया गया है। राज्य सरकार द्वारा बालिकाओं की सुरक्षा देने एवं उनके प्रोत्साहन के लिए ‘मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना’ लागू की गयी है। इसी प्रकार गांव-गांव तक बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से बी0सी0 सखी की नियुक्ति की गयी है। महिलाओं के आर्थिक उन्नयन के दृष्टिगत उन्हें स्वयं सहायता समूहों से जोड़ा जा रहा है। आज 52 लाख महिलाएं स्वयं सहायता समूहों से जुड़कर बेहतरीन कार्य कर रही हैं और आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बन रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान उत्तर प्रदेश में योजनाबद्ध तरीके से इससे निपटने की कार्यवाही की गयी। टीका उपलब्ध होने के बाद प्रदेश में बड़ी संख्या में कोविड टीकाकरण की कार्यवाही की गयी है, जिससे इस महामारी पर काफी हद तक नियंत्रण पाया जा सका है। आज उत्तर प्रदेश में बहुत कम संख्या में कोरोना केस रिपोर्ट हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज भी प्रदेश में कोरोना के सवा दो लाख टेस्ट प्रतिदिन किए जा रहे हैं। निगरानी समिति की कार्यकर्ता अब भी घर-घर जाकर स्थिति की मॉनीटरिंग कर रही हैं। उत्तर प्रदेश में आज सभी गतिविधियां संचालित हो रही हैं। कोरोना काल के दौरान विभिन्न प्रदेशों से अपने राज्य लौटे कामगारों, श्रमिकों इत्यादि के लिए बड़े पैमाने पर रोजगार सृजित किया गया।

प्रयागराज कुम्भ-2019 के सफल आयोजन का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए योजनाबद्ध ढंग से काम किया गया। इसके चलते यह पूरा आयोजन सुरक्षित, सुव्यवस्थित और स्वच्छता के साथ सम्पन्न हुआ। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने इसमें भाग लिया। लगभग 24 करोड़ श्रद्धालु कुम्भ क्षेत्र में आए। देश के 06 लाख गांवों के प्रतिनिधियों ने इसमें शिरकत की। कुम्भ में आने वाले श्रद्धालु उत्तर प्रदेश के अन्य भागों में भी गए और उन्होंने राज्य के बदले हुए माहौल को अनुभव किया। इससे राष्ट्रीय स्तर पर उत्तर प्रदेश के प्रति लोगों की धारणा बदली।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए अवस्थापना सुविधाओं का विकास अत्यन्त आवश्यक है। इस पर फोकस करते हुए राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में एक्सप्रेस-वेज का संजाल बिछाया जा रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे लगभग पूरा हो चुका है और अगले माह किसी समय इसका लोकार्पण सम्भावित है। इसी प्रकार बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य बहुत तेजी से चल रहा है। इसका लोकार्पण भी दिसम्बर, 2021 तक सम्भावित है।

मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण प्रस्तावित है। इसके लिए भूमि अधिग्रहण किया जा रहा है। प्रदेश के चार महानगरों में मेट्रो रेल सेवाएं संचालित की जा रही हैं। नवम्बर, 2021 तक कानपुर और आगरा मेट्रो रेल का संचालन शुरू हो जाएगा। मेरठ और दिल्ली के बीच आर0आर0टी0एस0 का विकास किया जा रहा है।
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना श्री संजय प्रसाद एवं सूचना निदेशक श्री शिशिर उपस्थित थे।

- Advertisement -

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.