A Symbol of Boldness.

- Advertisement -

फ्रिज का पानी छोड़ अब लोगों को भा रहा मटके का पानी

0

गरीबों का फ्रीज कहा जाने वाले मिट्टी का घड़ा अब इस महामारी में लोगों को काफी भा रहा है। आपको बता दें कि इस वक्त मटके वालों की चांदी हो रही है क्योंकि इनकी मांग काफी तेजी से बढ़ रही है। मटके की बिक्री पिछले साल की तुलना में दो-तीन गुणा और बढ़ गया है। मटकों की बढ़ती मांग से कुम्हार को काफी फायदा हो रहा है। बाजारों में एक मिट्टी का घड़ा 150 से 200 तक के बीच में बिक रहा है वहीं नल लगे हुए मटकों की कीमत ज्यादा दामों में बिक रहा है। मटका बनाने वाले कुम्हारों का मानना है कि दिल्ली में फ्रिज के आने से मटका का तो नामो निशान तक हट गया था और 7-8 सालों में मटके की बिक्री बिल्कुल न के बराबर थी।

आपको बता दें कि पिछले साल कोरोना महामारी के कहर ने इन मटको की बिक्री तेजी से बढ़ाई। अब लोग फ्रिज के पानी से ज्यादा मटके के पानी को पीना पंसद कर रहे है। इस साल भी फ्रिज का पानी पीने से लोग कतरा रहे है, लोगों को डर है कि कहीं फ्रिज का पानी पीने से खांसी , जुखाम और सर्दी न हो जाए। आपको बता दें कि लोग नल वाले मटके खरीदना ज्यादा पंसद कर रहे है वहीं हफ्ते में करीब 400-500 मटके की बिक्री हो रही है।

कुम्हारों का मानना है कि कई सालों से ठप पड़ा मटके का व्यापार अब जब तेजी पकड़ रहा है तो माल में कटौती आ रही है। मिट्टी के बर्तन में इस्तेमाल होने वाली खास मिट्टी होती है जिस काली या चिकनी मि्टटी कहा जाता है और यह हरियाणा के झज्जर के पास मिलता ही। लेकिन मिट्टी की मात्रा कम होने से माल कुम्हारो तक नहीं पहुंच पा रहा है। लॉकडाउन के कारण यह समस्या बढ़ती जा रही है।

 

- Advertisement -

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.