panchtantra-king-10

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-10

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-9 में आपने पढ़ा कि …….. दमनक समझाता जा रहा था, जो व्यक्ति राजा को आफत में पड़ा देखकर भी उसकी अनसुनी नहीं करता है और उसके...
Panchatantra_Kahani

PanchTantra-कान भरने की कला भाग-14

पिछले अंक के भाग-13 में आपने पढ़ा कि…………… उस मंत्री को विष्णुशर्मा नाम के उस पंडित का पता था जो सभी शास्त्रों का जानकार था और छात्रों के बीच बहुत लोकप्रिय था।...
Panchtantra

कान भरने की कला-कहानी की कहानी पंचतन्त्र-7

पिछले अंक के भाग-6 में आपने पढ़ा कि…………… पर यह इतना समय साध्य काम था जिसकी अनुमति न तो मेरी भावी योजनाएं देती थीं। न ही प्रकाशन संस्थान दे सकता था। यह...
Taka-Nahin-To-Taktaka

PanchTantra-टका नहीं तो टकटका

महिलारोप्य नामक जिस नगर में अमरशक्ति नाम का राजा राज करता था और जिसमें विष्णुशर्मा अपनी पाठशाला चलाते थे वह वह महिलारोप्य नामक नगर से उतना ही दूर था जितना दिल्ली,दिल्ली...
panchatantra-damanak

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-7

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-6 में आपने पढ़ा कि —........ करटक एक-एक कदम फूंक-फूंक कर रखने वालों में था। वह किसी काम में जल्दी नहीं करता था और पूरी बात समझे...
Panchatantra-King-8

PanchTantra की कहानी-बेकार का पचड़ा-भाग-8

पंचतंत्र के बेकार का पचड़ा भाग-7 में आपने पढ़ा कि …….. जो कुछ उस समय मैंने सुना और जाना था उसका सारांश मैं तुम्हें बताता हूॅ। कम से कम इसे तो गांठ...
PanchTantra-13

PanchTantra-कान भरने की कला भाग-13

पिछले अंक के भाग-12 में आपने पढ़ा कि…………… King ने खांस कर गला साफ करते हुए कहा, यहां मेरे ही दान पर पलने वाले पांच सौ पंडित बैठे हैं। पंडितों ने King...
panchatantra-nis-16

PanchTantra-कान भरने की कला भाग-16

पिछले अंक के भाग-15 में आपने पढ़ा कि…………… उसके मंत्रियों के अचरज का भी ठिकाना नहीं था। राजा अपने लड़कों को उस ब्राह्मण को सौंप कर इस ओर से पूरी तरह निश्चित...
panchatantra-8

पंचतन्त्र-कान भरने की कला भाग-8

पिछले अंक के भाग-7 में आपने पढ़ा कि…………… बरगद के नीचे की घास सूख जाती है और काई के ऊपर बीट में से भी बरगद निकल आता है। इससे आगे भाग-8 में पढ़िए.........कि........... जो...
Panchatantra-Short-Stories

PanchTantra-कान भरने की कला भाग-11

पिछले अंक के भाग-10 में आपने पढ़ा कि…………… सचिवों को यह बात मालूम थी। राजकुमार जैसे थे वैसा बनाने में उनमें से कुछ का सहयोग भी था। वे चाहते थे कि राजा...

MUST READ

MOST POPULAR