Take a fresh look at your lifestyle.
Browsing Tag

VANDE MATARAM

Shrimanta Shankardev-महान विभूति भाग-4

Shrimanta Shankardev-महान विभूति के भाग-3 में आपने पढ़ा कि..... नामधर और सत्र असम के धार्मिक सामाजिक जीवन के मूलाधार हैं। धर्म और लोकतंत्र का पाठ पढ़ाने वाले संस्थान हैं। सत्रों की स्थापना गुरु द्वारा की जाती है। जहां गुरु कुछ शिष्यों के…

Shrimanta Shankardev-महान विभूति भाग-3

Shankardev-महान विभूति के भाग-2  में आपने पढ़ा कि..... भक्ति के आचार्यों एवं कबीर आदि संतों से मिलने से उनके भक्त और कवि को नई दिशा प्राप्त हुई। तीर्थाटन से लौटकर Shankardev ने नव वैष्णव धर्म का प्रचार किया। Shankardev ने बरदोवा में प्रथम…

Shrimanta Shankardev-महान विभूति भाग-2

Shankardev-महान विभूति के मुख्य भाग में आपने पढ़ा कि....... इसे भी पढ़ें:  http://northindiastatesman.com/shrimanta-shankardev/ Shankardev  की रचनाओं में बरगीतों का महत्वपूर्ण स्थान है। ये गीत असमिया काव्य की बहुमूल्य देन है। अब इसके आगे…

Shrimanta Shankardev-महान विभूति भाग-1

Shrimanta Shankardev-पूर्वोत्तर राज्य की महान विभूति के मुख्य भाग में आपने पढ़ा कि.....Shrimanta Shankardev को विशाल नदी में तैरना भी उनको प्रिय था। किंतु बाद में दादी की प्रेरणा से वे तेरह साल की अवस्था में गुरु महेंद्र कंदली की टोल…

Shrimanta Shankardev-पूर्वोत्तर राज्य की महान विभूति

महापुरुष श्रीमंत शंकरदेव (Shrimanta Shankardev) सन 1449-1568 ई० में मुसलमानों के आक्रमण से पूर्व ही असम में भक्ति भावना पनप गई थी। भारत में प्रचारित भक्ति भावना से प्रभावित होकर असम में भी भक्ति का प्रचार-प्रसार हुआ। आठवीं से बाहरवीं…

SARFAROSHI KI TAMANNA अब हमारे दिल में है

राम प्रसाद बिस्मिल (Ram Prasad Bismil) भारत के महान क्रान्तिकारी व अग्रणी स्वतंत्रता सेनानी ही नहीं, अपितु उच्च कोटि के कवि, शायर, अनुवादक, बहुभाषाभाषी, इतिहासकार व साहित्यकार भी थे जिन्होंने भारत की आजादी के लिये अपने प्राणों की आहुति दे…

सुखदेव, एक भोला-भाला क्रांतिकारी

भारत की आजादी के लिए हुई क्रांति में सुखदेव का विशेष स्थान है। लाहौर साजिश मामले में सुखदेव को भगत सिंह और राजगुरू के साथ दोषी करार दिया गया और तीनों को फांसी पर लटका दिया गया। सुखदेव का मानना था कि देश की आजादी सशस्त्र क्रांति से ही संभव…

RajGuru ने सांडर्स को मौत के घाट उतारा

RajGuru थे, सांडर्स को मौत के घाट उतारने वाले महान क्रांतिकारीl १७ दिसंबर,१९२८ लाहौर में अन्य दिनों की तरह व्यस्तता थी। भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, और RajGuru अपनी भरी हुई पिस्तौल के साथ पुलिस थाने के पास मंडरा रहे थे। भगत सिंह और आजाद…

Bhagat Singh अमर शहीद भाग-चार

Bhagat Singh अमर शहीद भाग-तीन में आप यहॉं तक पढ़ चुके हैंl कि बम बनाने की तकनीक उन्होंने एक क्रांतिकारी जतींद्र नाथ दास से सीखी। अब पढ़िए इससे आगे:— १९२८ में ब्रिटिश सरकार ने भारत की तत्कालीन राजनीतिक स्थिति पर रिपोर्ट तैयार करने के…

Bhagat Singh अमर शहीद भाग-तीन

Bhagat Singh अमर शहीद भाग-दो में आप यहॉं तक पढ़ चुके हैंl  कि उन्होनें रिवोल्यूशनरी पार्टी ऑफ बंगाल से संपर्क साधना शुरू किया। अब इससे आगे पढ़िए— जो उस समय क्रान्ति का मुख्य केंद्र था। इसके नेता सचीद्र नाथ सान्याल थे। पार्टी की सदस्यता…