Take a fresh look at your lifestyle.
Browsing Tag

Mahatma Gandhi

समाजवाद का मतलब परिवारवाद तो नहीं! अनिल त्रिपाठी

बाराबंकी के गांधी भवन में समाजवाद के पितामह एवं प्रख्यात शिक्षाविद आचार्य नरेन्द्र देव जी की 131वीं जयन्ती पर गांधी जयन्ती समारोह ट्रस्ट की ओर से घनघोर समाजवादी चिन्तक राजनाथ शर्मा जी द्वारा आयोजित नरेन्द्र देव के नजरिये का समाजवाद विषयक…

लोकनायक जयप्रकाश नारायण

इस कॉलम में हम प्रस्तुत करने जा रहे हैं, देश और उसकी जनता के लिए तह तक ईमानदार एक महापुरूष की जीवनी।तो लीजिए प्रस्तुत है उनकी बानगी। स्वतंत्र भारत के इतिहास में सबसे ज्यादा प्यार और सम्मान जिन दो नेताओं को मिला, वे थे -पंडित जवाहरलाल

सुखदेव, एक भोला-भाला क्रांतिकारी

भारत की आजादी के लिए हुई क्रांति में सुखदेव का विशेष स्थान है। लाहौर साजिश मामले में सुखदेव को भगत सिंह और राजगुरू के साथ दोषी करार दिया गया और तीनों को फांसी पर लटका दिया गया। सुखदेव का मानना था कि देश की आजादी सशस्त्र क्रांति से ही संभव…

Gandhi को खारिज नहीं कर पाएंगे

Gandhi (गाँधी) को खारिज मत कीजिये, क्योंकि लाख कोशिशों के बाद भी उन्हें खारिज नही कर पाएँगे। उनके विचार को पढ़िए। आलोचना का दिल करे तो कीजिये। गाँधी, खुदा नही हैं। जिनकी आलोचना गुनाह हो। बस यह देखिये की गाँधी कितने अहम् हैं। उनकी हर बात को…

‘हिंद स्वराज’ के बहाने गांधी की याद

महात्मा गांधी (Gandhi)की मूलतः गुजराती में लिखी पुस्तक हिन्द स्वराज्य हमारे समय के तमाम सवालों से जूझती है। महात्मा गांधी की यह बहुत छोटी सी पुस्तिका कई सवाल उठाती है और अपने समय के सवालों के वाजिब उत्तरों की तलाश भी करती है। सबसे महत्व की…