Take a fresh look at your lifestyle.

एसिड वर्षा के दिन गए, अब आसमान से हो रही है प्लास्टिक की वर्षा!

0 7

“ओह माई गॉड!”, कुछ ऐसी ही प्रतिक्रिया थी, जेनिस ब्राह्नी की जब उन्होंने अपने माइक्रोस्कोप से यह जानना चाहा कि दक्षिण पश्चिम के जंगली क्षेत्रों की हवा में मिली धूल, कैसे मिट्टी के पोषक तत्व को प्रभावित करती है। उन्होंने जब आवर्धित धूल के नमूनों को देखा, तब उन्हें प्लास्टिक के चमकीले गुलाबी टुकड़े दिखाई दिए। जेनिस ब्राह्नी यूटा स्टेट यूनिवर्सिटी की एक बॉयोजियोकेमिस्ट हैं। उन्होंने इस विषय के बारे में खोज करना अपना लक्ष्य बना लिया है। अगले दो वर्षों तक वह इसी में जुटी रहीं। वह उस पैमाने को समझने लगीं जिस पर अमेरिका के संरक्षित प्राकृतिक क्षेत्रों पर माइक्रोप्लास्टिक घुलने की कोशिश कर रहा है। उनके इस अध्ययन को छापा गया और सब आंकड़े देखकर चकित रह गए।

ब्राह्नी ने इस अध्ययन में 11 पश्चिमी राष्ट्रीय उद्यानों और संरक्षित क्षेत्रों के बारे में पढ़ा। इनमें एरिज़ोना में ग्रांड कैन्यन नेशनल पार्क, क्रेटर्स ऑफ़ द मून नेशनल मूवमेंट एंड प्रिजर्व, और यूटा में उच्च यूंटास जंगल भी शामिल हैं। इन 11 क्षेत्रों में हर साल, हवा और बारिश लगभग 1,000 मीट्रिक टन प्लास्टिक लाते हैं जो कि 120 से 300 मिलियन प्लास्टिक की बोतलों के बराबर है। उन्होंने सूखे दिनों में सैटल करने वाले कणों की जांच और जो बारिश या बर्फ के साथ गिरे, उनकी जांच अलग-अलग की। अध्ययन से पता चला कि इनमें से अधिकांश माइक्रोप्लास्टिक छोटे फाइबर थे, जो कि विशेष तौर पर पॉलिएस्टर या नायलॉन, कालीनों और बाहरी गियर वाले कपड़ों के थे। शेष 30 प्रतिशत माइक्रोबायड थे, जो कि ठोस पॉलीथीन से बने छोटे गोले होते थे जिन्हें अक्सर स्क्रब और अन्य सौंदर्य उत्पादों में उपयोग किया जाता है। वे इंद्रधनुष के सभी रंगों में आए थे।

“हमें पहचानने की ज़रूरत है कि यह एक प्रदूषण स्रोत है, जो दूर नहीं जा रहा है,” ब्राह्नी कहती हैं। “यह वहीं है, और यह बहुत सारी समस्याएं पैदा कर सकता है। ” चूंकि प्लास्टिक सैकड़ों वर्षों में कभी-कभी छोटे-छोटे टुकड़ों में बदलकर खराब हो जाता है, इसलिए वैज्ञानिकों ने सुझाव दिया है कि माइक्रोप्लास्टिक्स न केवल नदियों और महासागरों के माध्यम से प्रसारित होता है, बल्कि वायुमंडल के माध्यम से, हवा द्वारा प्रसारित होता है, जमीन में जमा होता है, और फिर से किसी और जमीन पर चला जाता है। ब्राह्नी का अध्ययन हवा के माध्यम से माइक्रोप्लास्टिक्स के मूवमेंट की विशिष्ट दूरी और मात्रा को मापने वाले पहले अध्ययनों में से एक है।

क्या था यह पूरा अध्ययन?

विज्ञान में प्रकाशित नए अध्ययन के लिए, ब्राह्नी ने राष्ट्रीय वायुमंडलीय निक्षेपण कार्यक्रम के साथ भागीदारी की, जो हवा और बारिश के जरिए राष्ट्रीय उद्यानों और जंगल क्षेत्रों में पहुंचे धूल के नमूनों को एकत्रित करने के लिए, मौसम स्टेशनों का उपयोग करता है। जब भी ब्राह्नी ने तूफान के दौरान वर्षा के पानी का सैंपल या हवा से उड़ाने वाली धूल को एकत्रित किया, उन्होंने एक मौसम मॉडल चलाया, जिससे उन्हें पता चलता कि वे सैंपल संरक्षित क्षेत्रों में पहुंचने से पहले कहां थे। इस तरह उन्होंने पुष्टि की, कि शहर बारिश के माध्यम से माइक्रोप्लास्टिक्स फैलाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं। जब तूफान ब्राह्नी के अध्ययन किए क्षेत्रों तक पहुंचने के लिए शहरों से गुज़रे थे, तो उन्होंने शहरी इलाकों से 14 गुना अधिक माइक्रोप्लास्टिक जमा किया था। यह 14 गुना, जब वे शहरी क्षेत्रों से नहीं गुजरते थे की तुलना में है।

ब्राह्नी के मुताबिक, बारिश के साथ गिरने वाला प्लास्टिक परिदृश्य पर आए प्लास्टिक का मात्र एक फ्रेक्शन अर्थात एक अंश था। उनके द्वारा निकाले परिणामों से पता चला कि 15,000 टुकड़ों के माइक्रोप्लास्टिक जिनका उन्होंने विश्लेषण किया था, में से 75 प्रतिशत हवा द्वारा पार्कों में लाए गए थे। इनमें से अधिकांश प्लास्टिक के टुकड़े छोटे थे, जो उन्हें बारिश की बूंदों या कर्णों की तुलना में, लंबी दूरी की यात्रा करने दे सकते थे।

विश्व स्तर पर यह तस्वीर चौंकाने वाली है

विश्व स्तर पर यह तस्वीर और भी चौंकाने वाली है। प्लास्टिक के कण धरती पर से अधिक तेजी से फैलते हैं और आर्कटिक या फ्रेंच पाइरेनीज जैसे शुद्ध क्षेत्रों में प्रवेश करते हैं। वे गहरे महासागरों में घुस जाते हैं और इकोसिस्टम को नष्ट कर देते हैं, और फिर पानी को बाहर फेंक देते हैं और समुद्र की लहरों से पृथ्वी पर प्रसारित हो जाते हैं। यह देखते हुए कि यह एक मौलिक वायुमंडलीय प्रक्रिया है, प्लास्टिक के कण प्लास्टिक बारिश के रूप में गिरते हैं। यह नई तरह की वर्षा हो जो की मानव जाति के लिए अधिक महत्वपूर्ण साबित हो सकती है। माइक्रोपार्टिकल्स चारों ओर प्लास्टिक में घुस जाते हैं, लेकिन सबसे बुरी बात यह है कि 2030 तक, प्लास्टिक कचरे की मात्रा में प्रति वर्ष 460 मिलियन टन की वृद्धि की उम्मीद है। विकासशील देशों में प्लास्टिक के कचरों की मात्रा बढ़ रही है और यह एक बहुत ही भयावह तथ्य है।

वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि माइक्रोप्लास्टिक्स पूरे पर्यावरण और पशु दुनिया को प्रभावित करता है, और यहां तक ​​कि नए रोगाणुओं के उद्भव को भी उत्तेजित कर सकता है। अध्ययन से पता चलता है कि कण गायब नहीं होते हैं, लेकिन भूमि, वायु और समुद्र के विभिन्न प्रणालियों पर चक्रीय रूप से चलते हैं।

“हम प्लास्टिक के दौर में रह रहे हैं”

हाल के वर्षों में, वैज्ञानिकों ने प्राकृतिक वातावरण में माइक्रोप्लास्टिक को पाया है। आर्कटिक की बर्फ से लेकर समुद्र तल के सबसे गहरे दरारों तक, ताज़े पानी में तैरते हुए, और प्रवासी पक्षियों के लिए तटीय संरक्षित क्षेत्रों की रेत में मिला हुआ, हर जगह माइक्रोप्लास्टिक को पाया गया है। 2018 में, वैश्विक अनुसंधान की साझेदारी ने 2,677 पानी के नमूनों में से 88 प्रतिशत नमूनों में माइक्रोप्लास्टिक पाया, जो उन्होंने हर महासागर और कई जलक्षेत्रों से इकट्ठे किए थे।  इस 2018 के अध्ययन का नेतृत्व करने वाले एबिगेल बैरो एक समुद्री अनुसंधान वैज्ञानिक हैं। वे कहते है, “हम प्लास्टिसिन में रह रहे हैं या हम प्लास्टिक का दौर में रह रहे हैं।” ब्राह्नी के शोध में शामिल नहीं होने वाले एबिगेल बैरो कहते हैं, “हम जिसका ज्यादातर लोगों को एहसास है, उससे अधिक तीव्रता से प्लास्टिक से संपर्क कर रहे हैं।”

माइक्रोप्लास्टिक के क्या प्रभाव हो सकते हैं?

 

ब्रिटेन में स्ट्रेथक्लाइड विश्वविद्यालय के एक पर्यावरण इंजीनियर स्टीव एलेन, जिन्होंने ब्राह्नी के अध्ययन में भाग नहीं लिया, का कहना है कि माइक्रोप्लास्टिक, विशेष रूप से छोटे माइक्रोप्लास्टिक के प्रभाव वन्यजीवों पर अभी भी व्यापक रूप से अज्ञात हैं। जानवरों द्वारा निगले जाने पर, छोटे कण न केवल अपने रसायनों को रिसाव करते हैं , बल्कि वे उन सभी रसायनों को बाहर निकालते हैं, जो उन्होंने यात्रा के दौरान अपने भीतर समाए थे। उन्होंने आगे कहा, “उन सभी रसायनों का रिसाव उस शरीर में हो जाता है, जिन्होंने भी प्लास्टिक खाया होता है।”

हालांकि, वन्यजीवों पर माइक्रोप्लास्टिक्स के नकारात्मक प्रभावों को और अधिक शोध की आवश्यकता है, पर कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि माइक्रोप्लास्टिक्स जानवरों के आंत्र नाल में बाधा डाल सकते हैं और उनके बैक्टीरिया को बदल सकते हैं । पिछले महीने, शोधकर्ताओं ने पाया  कि दक्षिण वेल्स में व्हाइट-थ्रोटेड डिपर्स प्रत्येक दिन लगभग 200 माइक्रोप्लास्टिक्स खा लेते हैं। इसकी संभव वजह पक्षियों के आहार में कीड़ों का होना माना गया। इसी तरह के एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने माइक्रोप्लास्टिक्स के औसतन छह टुकड़ों को, जो ज्यादातर University of Strathclyde के अनुसार रेयॉन थे, रैप्टर की नौ प्रजातियों की आंतों में पाया। वे नौ प्रजाति फ्लोरिडा में पक्षियों के लिए ऑड्यूबॉन सेंटर फॉर बर्ड्स में नहीं बचाए जा सके थे या मृत ही आए थे। अध्ययन में सभी 63 पक्षियों के पाचन तंत्र में माइक्रोप्लास्टिक था।

ब्राह्नी का कहना है, कि उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में प्लास्टिक की उपस्थिति विशेष रूप से खतरनाक हो सकती है। इन पारिस्थितिक तंत्रों में साधारण फूड वेब होते हैं, जिनमें बहुत कम प्रजातियाँ एक दूसरे से कसकर जुड़ी होती हैं। यदि प्लास्टिक की खपत एक प्रजाति को प्रभावित करना शुरू कर देती है, तो यह पूरे सिस्टम को गड़बड़ कर सकती है। ब्राह्नी का कहना है कि अध्ययन में अधिक ऊंचाई पर माइक्रोप्लास्टिक्स ज़्यादा मात्रा में दिखाई दिए।

 

images (46)
images (46)

इस बात के भी प्रमाण हैं कि माइक्रोप्लास्टिक मूल रूप से मिट्टी के तापमान, नमी और पोषक तत्वों की संरचना में परिवर्तन करके प्राकृतिक वातावरण को बदल सकता है, जो पौधों और कीड़ों के विकास और वितरण को प्रभावित कर सकता है, और शायद फसल की पैदावार को भी कम कर सकता है।

एसिड की बारिश के दिन गए, यह सब पढ़के सब प्लास्टिक की वर्षा के विषय में ही सोच सकते हैं। यह परिस्थितिकी के लिए एक लाल घंटी के समान है। जितने अधिक प्लास्टिक उत्पाद धरती पर होंगे, मानवता और पूरे पर्यावरण के लिए उतना ही गंभीर समस्या होगी। इससे निजात पाने के लिए और कई प्रश्नों के उत्तर ढूंढ़कर कुछ करने की आवश्यकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.