19 C
New York
June 20, 2019
MISCELLANEOUS

Chhattisgarh के अस्पताल में ऑक्सीजन आपूर्ति बाधित होने से तीन बच्चों की मौत

Chhattisgarh

रायपुर। Chhattisgarh के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में कथित रूप से ऑक्सीजन आपूर्ति बाधित होने के कारण तीन नवजात बच्चों की मौत हो गई है। हालांकि अधिकारियों ने ऑक्सीजन की कमी के कारण बच्चों की मौत होने की घटना से इनकार किया है, लेकिन अस्पताल के ऑक्सीजन आपूर्ति विभाग के एक कर्मचारी को ड्यूटी में लापरवाही के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मामले को गंभीरता से लेते हुए घटना की जांच का आदेश दिया है।

Chhattisgarh की राजधानी रायपुर स्थित डॉक्टर भीमराव अंबेडकर अस्पताल के शि​शु ​चिकित्सा विभाग में भर्ती तीन बच्चों की पिछले 24 घंटों में मौत हो गई है। बच्चों के परिजनों ने आरोप लगाया है कि बच्चों की मौत ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होने के कारण हुई है।
अस्पताल में बच्चों की मौत की घटना के बाद राज्य में स्वास्थ्य विभाग के सचिव सुब्रत साहू ने आज यहां संवाददाताओं को बताया कि अस्पताल में भर्ती तीन ​बच्चों की रविवार को विभिन्न कारणों से मौत हुई है। साहू ने बताया कि एक बच्चे की मौत रविवार दिन में साढ़े बारह बजे हुई। बच्चे का वजन काफी कम था और उसे अन्य दिक्कतें भी थीं। वहीं दूसरे बच्चे की मौत दोपहर डेढ़ बजे हुई। इस बच्चे को सांस लेने में और हृदय से संबंधित तकलीफ थी। साहू ने बताया कि तीसरे बच्चे की मौत रविवार रात 10 बजे हुई। इस बच्चे को भी सांस लेने में तकलीफ थी।
अधिकारी ने बताया कि हालांकि इस घटना के बाद ऑक्सीजन आपूर्ति संयंत्र में तैनात एक कर्मचारी रवि चंद्रा को ​गिरफ्तार किया गया है। उस पर अपने काम में लापरवाही बरतने का आरोप है। साहू ने बताया कि रविवार शाम लगभग पांच बजे शिशु चिकित्सा विभाग में पदस्थ एक डॉक्टर ने देखा कि मुख्य ऑक्सीजन टैंक में ऑक्सीजन की मात्रा कम है। वह लेवल दो तक पहुंच गया था। हालांकि इस दौरान ऑक्सीजन की आपूर्ति में व्यावधान नहीं आया था। इसके बाद डॉक्टर ने स्टाफ रवि चंद्रा से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका। कुछ देर बाद चंद्रा नशे की हालते में पाया गया। जिसके बाद पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई, जिसके आधार पर पुलिस ने चंद्रा को गिरफ्तार कर लिया।
साहू ने संवाददाताओं को बताया कि ऑक्सीजन की आ​पूर्ति में कोई व्यावधान नहीं आया था। वहीं ऑक्सीजन आपूर्ति संयंत्र में 15 मीनट के भीतर ऑक्सीजन का स्तर ठीक कर लिया गया। अधिकारी ने बताया कि मृत बच्चों के शवों का पोस्टमार्टम नहीं कराया गया है।
इधर मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मामले को गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच का आदेश दिया है। अधिकारियों ने बताया कि सिंह ने अस्पताल में बच्चों की मौत पर गहरा दुःख व्यक्त किया है और उनके परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की है। रमन सिंह ने कहा कि इस दुखद घटना के लिए जिम्मेदार किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अफसरों को इस मामले की जांच का निर्देश दिया है।
इधर राज्य के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के अध्यक्ष ज्ञानेश शर्मा ने आज यहां आरोप लगाया कि बच्चों की मौत की घटना में लीपापोती की जा रही है। शर्मा ने मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।

Related posts

ज्यादा smoking से हो सकता है इरेक्टाइल डिस्फंक्शन

NIS Digital Team

शहीद भगत सिंह को जयंती पर प्रधानमंत्री और मंत्रियों ने श्रद्धांजलि दी

NIS Digital Team

Dera Violence : हरियाणा, पंजाब में असहज शांति

NIS Digital Team

Leave a Comment