PanchTantra-टका नहीं तो टकटका

0
65
Taka-Nahin-To-Taktaka
Taka-Nahin-To-Taktaka

महिलारोप्य नामक जिस नगर में अमरशक्ति नाम का राजा राज करता था और जिसमें विष्णुशर्मा अपनी पाठशाला चलाते थे वह वह महिलारोप्य नामक नगर से उतना ही दूर था जितना दिल्ली,दिल्ली से दूर है।

raja-bhoj
raja-bhoj

महिलारोप्य नगर में बैठे हुए, महिलारोप्य नगर के राजा के पुत्रों को कहानी सुनाते हुए, विष्णुशर्मा कह रहे थे, दक्षिणदेश में महिलारोप्य नाम का एक नगर है। और राजकुमारों को बता रहे थे कि कहानियों का भूगोल हमारे भूगोल से कुछ अलग होता है।

उस महिलारोप्य नगर में एक बनिया रहता था। व्यापार और बेईमानी का चोली दामन का साथ होता है। पर उस बनिया के बाप ने ईमानदारी से बहुत सा धन कमा रखा था। उसका नाम वर्धमान था।

ये भी पढ़ें:— PanchTantra-कान भरने की कला भाग-14
http://northindiastatesman.com/king/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here